वाराणसी में निर्माणाधीन पुल का हिस्सा गिरने से 12 लोगों की मौत- पुल के नीचे कई लोगों के दबे होने की आशंका

रोजमर्रा का सामान खरीदने एवं शाम के लिए खाने पीने की चीजें एवं बाजार से सब्जी लेने के लिए निकले थे, लेकिन उन्हें क्या पता था, कि आज सूरज ढलने के साथ ही उनकी जिंदगी की भी आखिरी शाम ढल जाएगी।

जी हां वाराणसी में आसमान से गिरी मौत में लगभग 12 लोगों की जिंदगी निगल उठीं। हम बात कर रहे हैं वाराणसी की एक घटना पर, जहां मंगलवार की शाम में  कैंट रेलवे स्टेशन के पास निर्माणाधीन पुल का एक हिस्सा, नीचे गुजर रहे राहगीरों पर जा गिरा। जिसकी चपेट में आकर करीब 12 लोगों ने मौके पर ही दम तोड़ दिया, साथ ही साथ पुल के नीचे से गुजर रहे एवं खड़े हुए वाहनों में कई लोगों के फंसे होने की आशंका जताई जा रही है।

वही इस मामले में डीजीपी ओपी सिंह ने बताया है कि मौके पर पुलिस टीमें, राहत एवं बचाव कार्य में लगी हुई हैं। उनके अनुसार पुल के नीचे कई लोगों के दबे होने की आशंका है, जिसकी संख्या को अभी बताया नहीं जा सकता है।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी एवं उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री ने ट्वीट कर जताया शोक- मुख्यमंत्री योगी ने ₹5 लाख मुआवजे का भी किया ऐलान ।

सूबे के सीएम योगी आदित्यनाथ ने वाराणसी के कैंट रेलवे स्टेशन के पास निर्माणाधीन पुल का हिस्सा गिरने से, उसकी चपेट में आए लोगों के प्रति ट्वीट करके संवेदना व्यक्त की। उन्होंने जिला प्रशासन को निर्देश देने की बात भी कही, जिसमें उन्होंने तेजी से बचाव कार्य करने का निर्देश देने की बात कही। उन्होंने कहा उत्तर प्रदेश के उप मुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्य कुछ ही देर में वाराणसी पहुंचेंगे।

वहीं थोड़ी देर बाद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भी ट्वीट किया। ट्वीट के माध्यम से उन्होंने दुर्घटना में मृतकों के प्रति शोक व्यक्त किया और उन्होंने बताया कि योगी आदित्यनाथ से बात हुई है, और राज्य सरकार अधिकारियों से बात करके पूरे घटनाक्रम के बाद स्थानीय लोगों की हर मुमकिन मदद के लिए तैयार है।

एनडीआरएफ की 2 टीमें रवाना- 

सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार बचाव कार्य हेतु एनडीआरएफ की दो टीम को वाराणसी के लिए भेज दिया गया है। जबकि एक टीम ने घटनास्थल पर पहुंचकर बचाव कार्य को शुरू भी कर दिया है।

जरुर पढ़ें-कर्नाटक में बन सकती है बीजेपी की सरकार

वहीं दूसरी ओर इस दुखद स्थिति में उत्तर प्रदेश के पूर्व CM अखिलेश यादव ने भी ट्वीट करके वाराणसी वाराणसी में उपस्थित समाजवादी पार्टी के कार्यकर्ताओं से घटनास्थल पर पहुंचकर घटनास्थल पर फंसे लोगों की मदद करने की अपील की, और सीएम योगी आदित्यनाथ से मुआवजा देने के साथ-साथ अतिरिक्त जिम्मेदारियों को भी निभाने की बात कही ।

वाराणसी PM मोदी का संसदीय क्षेत्र है –  वाराणसी को क्योटो बनाना चाहते हैं मोदी

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का संसदीय क्षेत्र वाराणसी है, जहां से 2014 का लोकसभा चुनाव जीतने के बाद उन्होंने जापान के शहर  क्योटो की तर्ज पर काशी नगरी को क्योटो बनाने का वायदा किया था।  प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और जापान के प्रधानमंत्री शिंजो आबे ने 30 अगस्त 2014 को “काशी क्योटो पैक्ट” नामक एक समझौते पर हस्ताक्षर किये थे। जिसमें शहरी आधुनिकीकरण और संस्कृति के क्षेत्र में विकास करने की बातें शामिल हैं।

जरुर पढ़ें-रातों रात कैबिनेट में फेरबदल हुआ, जानिए क्यों गवाना पड़ा केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी को सूचना और प्रसारण मंत्रालय

बहुत तेजी से विकसित होने की राह अगर लोगों की मौत से होते हुए गुजरनी है तो ऐसे विकास का देरी से होना ही सही है। बताते चलें कि 2019 का चुनाव धीरे-धीरे नजदीक आ रहा है जिसके लिए सरकार से मिले आदेशों के अनुसार प्रोजेक्ट मैनेजर जल्दी से जल्दी काम को खत्म करने में लगे हुए हैं, नतीजतन आज यह हादसा उस जल्दीबाजी में विकास को दिखाने की ललक में कई जिंदगियों की मौत का गवाह बन गया।

Connect with Us! अपनी राय कमेंट्स में दें. ताजा ख़बरों के लिए हमें फॉलो करें. अगर आपको ये पोस्ट पसंद आई, तो इसे लाइक और शेयर करना न भूलें. Subscribe our Youtube Channel: AajKaReporter Follow us on: Facebook, Twitter, Instagram