गृह मंत्रालय ने प्रस्ताव पारित किया तो प.बंगाल का नाम बांग्ला’ कर दिया जाएगा

पश्चिम बंगाल विधानसभा में राज्य का नाम बदलने का प्रस्ताव पास हो गया है। गुरुवार को पश्चिम बंगाल विधानसभा में राज्य के नाम को पश्चिम बंगाल से ‘बांग्ला’ में बदलने का प्रस्ताव पारित किया गया। अब, प्रस्ताव केंद्रीय गृह मंत्रालय को भेजा जाएगा। यदि गृह मंत्रालय ने प्रस्ताव  को मंजूरी दी, तो पश्चिम बंगाल का नाम बदलकर ‘बांग्ला’ कर दिया जाएगा। ये नामकरण का प्रस्ताव राज्य के नाम को सभी भाषाओं में ‘बांग्ला’ में बदलने के लिए कहता है। हालांकि इससे दो साल पहले ममता बनर्जी सरकार ने नाम बदलने का प्रयास किया था लेकिन उस पर बात आगे नहीं बढ़ पाई थी. बता दें कि, पश्चिम बंगाल का नाम बदलने का शुरुआती कारण ये है कि जब भी सभी राज्य सरकारों की बैठक होती है तो अल्फाबेटिकल ऑर्डर में पश्चिम बंगाल का नाम सबसे आखिर में आता है।

इससे पहले 2011 में राज्य सरकार ने पश्चिम बंगाल को ‘पश्चिम बंगो’ के रूप में नामित करने के लिए केंद्र को एक प्रस्ताव भेजा था, लेकिन उसे ग्रीन सिग्नल नहीं मिला। 1947 में भारत के विभाजन के बाद बंगाल को पूर्वी बंगाल और पश्चिम बंगाल के रूप में विभाजित किया गया था। पूर्वी बंगाल पाकिस्तान का हिस्सा बन गया और 1971 में आजाद होकर बांग्लादेश बन गया, जबकि पश्चिम बंगाल नाम बंगाल के भारतीय पक्ष के साथ जारी रहा।

Connect with Us! अपनी राय कमेंट्स में दें. ताजा ख़बरों के लिए हमें फॉलो करें. अगर आपको ये पोस्ट पसंद आई, तो इसे लाइक और शेयर करना न भूलें. Subscribe our Youtube Channel: AajKaReporter Follow us on: Facebook, Twitter, Instagram