अब WhatsApp की फर्जी खबरों पर लगेगा लगाम, भारत में खुलेंगे ऑफिस

यूं तो WhatsApp का प्रयोग हम बातचीत करने के लिए करते हैं, लेकिन WhatsApp पर फैल रही अफवाएं और फर्जी न्यूज़ बड़ी तेजी से वायरल हो जाती है, और लोग इस को सच मान कर एक दूसरे तक फॉरवर्ड कर देते हैं। और यह एक बड़ी परेशानी का मुद्दा बन जाती है। पिछले महीने  केंद्रीय सूचना एवं प्रौद्योगिकी मंत्री रवि शंकर प्रसाद ने प्रेस कॉन्फ्रेंस कर जानकारी दी कि सोशल मीडिया साइट्स की भी जिम्मेदारी हो कि वह गलत सूचनाएं फैलाने का जरिया न बनें, क्योंकि Whatsapp पर फैल रही अफवाहों की वजह से मॉब लिंचिंग की घटनाएं बढ़ रही हैं। इसकी जवाब नहीं WhatsApp कंपनी ने कहा था कि उसके प्लेटफॉर्म के जरिए इन मैसेज को रोकना एक चुनौती है और इसके लिए उनके और भारत सरकार के बीच पार्टनरशिप की जरूरत है। वही इस बातचीत को आगे बढ़ाते हुए आज व्हॉट्सएप के मुख्य कार्यकारी अधिकारी (सीईओ) क्रिस डेनियल्स भारत आए हैं, और रवि शंकर प्रसाद से मिलकर कई अहम मुद्दों पर बातचीत की है।

WhatsApp पर फैल रहे फर्जी मैसेजेस पर लगेगी अब लगाम-

WhatsApp पर फैल रहे फर्जी मैसेजेस, भड़काऊ न्यूज़ और अफवाहों को रोकने के लिए IT मंत्री रविशंकर प्रसाद और WhatsApp के सीईओ क्रिस डेनियल्स ने आज मुलाकात कर कई अहम मुद्दों पर बातचीत की। रविशंकर प्रसाद ने यह सब काबू करने के लिए WhatsApp के सीईओ से गुजारिश की वह भारत में कंपनी के दफ्तर खोलें और साथ ही इस तरह के अफ़वाओं को रोकने के लिए पुलिस की मदद करें। इन्हीं गलत अफवाओं की वजह से पिछले कुछ समय में मॉब लिंचिंग की तमाम घटनाओं से सरकार काफी परेशान है।  केंद्रीय मंत्री रविशंकर प्रसाद ने क्रिस डेनियल्स से मुलाकात के बाद कहा कि व्हॉट्सएप भारतीय कानून के अधीन रहकर काम करने के लिए तैयार है।

रविशंकर प्रसाद नहीं WhatsApp के सामने तीन प्रमुख बातें रखीं-

WhatsApp के सीईओ से बातचीत के दौरान रविशंकर प्रसाद ने सबसे पहली और प्रमुख बात यह रही कि भारत में WhatsApp के काम करने के लिए एक प्रमुख कार्यालय खुलना चाहिए, दूसरी बात कि व्हॉट्सएप पर फेक न्यूज, भड़काऊ संदेशों और अफवाहों को रोकने के लिए सख्ती से कदम उठाया जाना चाहिए और इसके लिए प्रभावी समाधान किया जाना चाहिए। तीसरी और अंतिम बात यह है कि फेक न्यूज, भड़काऊ मैसेज कहां से आते हैं, इसे मॉनिटर किया जाए और तकनीक की मदद से इसका पता लगाया जाए और इस तरह की समस्याओं के समाधान के लिए अधिकारी नियुक्त की जानी चाहिए।

रविशंकर प्रसाद ने आगे कहा कि, ‘मेरी क्रिस डेनियल्स के साथ बैठक हुई है। व्हाट्सएप ने पूरे देश में जागरूकता फैलाने में जो काम किया है, उसके लिए मैं उनकी धन्यवाद करता हूं, लेकिन भीड़ द्वारा पीट-पीटकर हत्या (मॉब लिंचिंग) और बदले की कार्रवाई के तहत अश्लील तस्वीरें बिना दूसरे की मर्जी के खिलाफ डालने जैसी गैरकानूनी गतिविधियों का समाधान आपको ढूंढना होगा।  यह भारत में आपराधिक और भारतीय कानून का उल्लंघन है। रविशंकर प्रसाद ने आगे कहा कि फेसबुक की अगुवाई वाली कंपनी व्हॉट्सएप के सीईओ ने हमें भरोसा दिलाया है कि वह इन तीनों बिंदुओं के ध्यान दे रहे हैं और काम कर रहे हैं। वहीं भारत में कार्यालय खोलने के प्रस्ताव पर जल्द विचार कर किसी निष्कर्ष तक पहुंच जाएंगे।

WhatsApp लगातार खुद को अपडेट कर रहा है और अफवाहों को रोकने के लिए नए नए फीचर्स भी बना रहा है, आज जिस तरह की बातचीत हुई रविशंकर प्रसाद से, अगर यह सब ठीक से हो गया तो यह भारत के लिए बहुत ही अच्छी खबर है कि WhatsApp के जरिए फैल रही अफवाहों पर अब लगाम लग सकती है।

Connect with Us! अपनी राय कमेंट्स में दें. ताजा ख़बरों के लिए हमें फॉलो करें. अगर आपको ये पोस्ट पसंद आई, तो इसे लाइक और शेयर करना न भूलें. Subscribe our Youtube Channel: AajKaReporter Follow us on: Facebook, Twitter, Instagram