एरिक्सन ने भारत में पहली बार 5G के प्रदर्शन का आयोजन किया

स्वीडिश दूरसंचार कंपनी एरिक्सन ने शुक्रवार को भारत के अभी तक के पहले 5G लाइव शोक का शुरू से अंत तक एक्सप्लोरेशन दिखाया। यह एरिक्सन के 5G टेस्ट बेड और 5G न्यू रेडियो के द्वारा किया गया, जिसने 5.7 जीबीपीएस की प्रवाह क्षमता(स्पीड) और 3 मिलीसेकेंड की अति-कम विलंबता(लेटेंसी) प्रदान की। भारतीय सरकार 2020 तक 5G नेटवर्क को लाने की योजना बना रही है इसलिए एक मजबूत 5G पारिस्थितिक तंत्र के निर्माण की दिशा में इस प्रदर्शन का आयोजन किया गया।

विश्व के परिदृश्य में भारत को भी अप तो डेट होने के लिए, देश में नई तकनीकों एवं नए-नए अन्वेषण लाने और 5G पारिस्थितिकी तंत्र तैयार करने के उद्देश्य से संचार प्रौद्योगिकी की प्रमुख स्वीडिश कंपनी एरिक्सन ने शुक्रवार को देश मे पहली बार इस प्रकार का आयोजन किया।

एरिक्सन के सर्वे के अनुसार, 2026 तक भारतीय दूरसंचार सेवा प्रदाता 5G प्रौद्योगिकी में 27.3 अरब रेवन्यू का उपार्जन कर सकते है। 5G टेक्नोलॉजी नयी विशेषताएं और एक नया स्तर लाएंगी, जिससे रेवेन्यू की अपार संभावनाएं उत्पन्न होगी।

भारत मे वर्तमान में 4G टेक्नोलॉजी ने धूम मचा रखी है, और इस धमाल की अगुआ नयी दूरसंचार सेवा प्रदाता ‘जिओ’ ने सभी पूर्ववर्ती सेवा प्रदाताओं के लिए मुश्किल खड़ी कर दी है। जिओ के आने के पश्चात कुछ सेवा प्रदाताओं का आपस मे विलय हुआ, जैसे यूनिनॉर का एयरटेल में, कुछ सेवा प्रदाताओं ने आपस मे हाथ मिला लिए वोडाफोन और आईडिया ने, तथा कुछ सेवा प्रदाता को अपनी सेवाएं समाप्त करनी पड़ी।

Connect with Us! अपनी राय कमेंट्स में दें. ताजा ख़बरों के लिए हमें फॉलो करें. अगर आपको ये पोस्ट पसंद आई, तो इसे लाइक और शेयर करना न भूलें. Subscribe our Youtube Channel: AajKaReporter Follow us on: Facebook, Twitter, Instagram