आज है इस दशक की सबसे बड़ी शिखर वार्ता जिससे है पूरी दुनिया को उम्मीद

12 जून 2018 यानी आज के दिन सिंगापुर के सेंटोसा द्वीप में राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प और उतर कोरिया के तानाशाह राष्ट्रपति किम जोंग पहली बार मिलेंगे| एक दूसरी के जानी दुश्मन रह चुके दोनों राष्ट्र प्रमुख जब आमने-सामने होंगे तो एक शीतयुद्ध की खतरनाक परंपरा का अंत होगा जिसके प्रति सम्पूर्ण दुनिया आशावादी नज़रे बिठाए है| इन दोनों के पास ही परमाणु हथियारों का ऐसा ज़ख़ीरा है जिससे इनसे ज़्यादा पूरी दुनिया को खतरा है|

तीनो पीढ़ियों में यूएस प्रेजिडेंट से सीधे मिलने वाले किम जोंग पहले नार्थ कोरिया राष्ट्रपति होंगे तो वही डोनाल्ड ट्रम्प भी इस पद पर रहते हुए किसी नार्थ कोरिया प्रेजिडेंट से मिलने वाले इतिहास के पहले अमेरिकी राष्ट्रपति होंगे| अभूतपूर्व सुरक्षा इंतजामों के बीच होने जा रहे इस बहुचर्चित शिखर सम्मेलन की तैयारियों को अंतिम रूप देने के लिए सोमवार को दोनों देशों के अधिकारियों ने मुलाकात की। दोनों पक्षों ने शीर्ष नेताओं के बीच बातचीत के एजेंडो को लेकर मतभेदों को दूर करने की कोशिश की|

सुरक्षा जायजे के बाद कपेला होटल में यूएस विदेश मंत्री ने संवादाता सम्मलेन में कहा कि परमाणु निशस्त्रीकरण के लिए नार्थ कोरिया के तैयार हो जाने पर अमेरिका उसे पुख्ता सुरक्षा देने का वादा करता है|

क्या होगा एजेंडा ?

अमेरिका चाहता है कि उत्तर कोरिया अपने मिसाइल एवं परमाणु कार्यक्रम को पूरी तरह से रोक दे | नार्थ कोरिया चाहता है कि ट्रंप के साथ पूर्ण शांति स्थापित करने के तरीकों पर बातचीत हो| बता दें 1952 में दोनों कोरिआई देश -नार्थ एवं साउथ के बीच युद्ध विराम तो हुआ लेकिन शांति समझौता नहीं हो पाया है ऐसे में इस बातचीत से दोनों देशो के बीच शान्ति स्थापना की भी बाद तय हो पायेगी यह अहम होगा|

रोचक नहीं ख़ास भी है शिखर वार्ता !

ट्रंप पांच सितारा शांगरिला होटल में ठहरे हैं जबकि किम उनसे आधे किमी की दूरी पर पांच सितारा सेंट रेजिस होटल में रुके हैं। इसमें पूरा खर्च करीब 100 करोड़ आने की उम्मीद है जिसे सिंगापुर की सरकार पूरी तरह से उठा रही है| शिखर वार्ता शुरू हुई नहीं कि किम जोंग ट्रम्प को मयाना शुरू कर चुके है|

इस शिखर वार्ता में दोनों में बात बन गयी तो दूसरी क्या तीसरी मीटिंग तक सीधे वाशिंगटन में मुलाक़ात हो जाएगी| दुनिया में शान्ति आएगी ही चैन की सांस के साथ खुशियां भी जताई जाएगी लेकिन अंतिम घड़ी तक रुक जाइए क्योंकि दोनों नेता में से किसका मूड बदल कब बदल जाइए इसका आंकलन करना असंभव ही समझा जाइए बस नज़रो से इंतज़ार करिये शुभ संचार की जिससे तनावग्रस्त इस दुनिया में कुछ तो सुकून आ जाये|

Connect with Us! अपनी राय कमेंट्स में दें. ताजा ख़बरों के लिए हमें फॉलो करें. अगर आपको ये पोस्ट पसंद आई, तो इसे लाइक और शेयर करना न भूलें. Subscribe our Youtube Channel: AajKaReporter Follow us on: Facebook, Twitter, Instagram