एससीओ सम्मलेन 2018 : पीएम मोदी से मिले चीनी राष्ट्रपति जिनपिंग , दुनिया को दिया ठोस मैसेज

दो दिन के शंघाई सहयोग संगठन सम्मलन में शिरकत करने हेतु भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी चीन पहुंचे है| शानिवार को पीएम मोदी ने चीन के राष्ट्रपति शी जिनपिंग से मुलाक़ात की| दोनों के बीच इस दौरान द्विपक्षीय वार्ता हुई| अपने संबोधन में प्रधानमंत्री ने कहा कि भारत-चीन के बेहतरीन होते रिश्तो से दुनिया को शांति ,स्थिरता और समृद्धि मिल सकती है|

बता दें पिछले 5 से अधिक हफ्तों में मोदी दूसरी बार चीन पहुंचे है| इससे पहले उन्होंने वहां सम्मलेन के दौरान अप्रैल में ही शी जिनपिंग से मुलाक़ात की थी लेकिन यह अनौपचारिक थी| इस सम्मलेन में ईरान परमाणु समझौते के भविष्य के साथ -साथ रूस पर अमेरिकी प्रतिबंधों के प्रभाव और कई मुद्दों पर चर्चा करेंगे| इसके साथ ही प्रशांत महासागर की सूरत -ए-हाल का भी ज़िक्र होगा|

ऐसा इतिहास में पहली बार हो रहा है जब कोई प्रधानमंत्री एससीओ शिखर सम्मलेन में हिस्सा ले रहा है| भारत ,चीन और रूस व उनके नज़दीकी सहयोगी देशों -पाकिस्तान कजाकिस्तान, किर्गिस्तान, ताजिकिस्तान व उज्बेकिस्तान के शीर्षतम नेता शंघाई सहयोग संगठन (एससीसो) के वार्षिक सम्मलेन के लिए पधारे हैं| मोदी इन सभी नेताओं के साथ एक दर्जन से भी अधिक द्विपक्षीय मुलाक़ात करेंगे|

मोदी के दोबारा चीन की यात्रा पर जाने के पीछे दो वजह है -एक तो वह चीन के सम्बन्धो को बेहतर करने में पूरी तरह जुटे हुए है जिससे युद्ध की जगह आपसी व्यापार को बढ़ावा मिले और विदेश नीति खासकर चीन के मामले पर विरोधियों को चुप किया जा सके क्योंकि अगला संभावित कार्यकाल होने पर भी उनके सामने चीन के राष्ट्राध्यक्ष शी जिनपिंग ही होंगे इसलिए उनके साथ मधुर सम्बन्ध ही बेहतर है|

दूसरी वजह है कि एसएसओ सम्मलेन के माध्यम से भारत चीन के साथ तगड़ी दोस्ती दिखाकर अन्य देशों को भी अपनी तरफ लामबंध करने में सफल हो पायेगा जिससे उनके द्वारा अन्य क्षेत्रों में सहयोग की भी सम्भावना को बल मिलेगा|

Connect with Us! अपनी राय कमेंट्स में दें. ताजा ख़बरों के लिए हमें फॉलो करें. अगर आपको ये पोस्ट पसंद आई, तो इसे लाइक और शेयर करना न भूलें. Subscribe our Youtube Channel: AajKaReporter Follow us on: Facebook, Twitter, Instagram