जानिए क्या है आंतक मचा देने वाले वाला निपाह वायरस ?

पहले स्वाइन फ्लू फिर एबोला वायरस और अब “निपाह ” वायरस बीमारी ने भारत के दक्षिणतम राज्य केरल में आतंक मचा रखा है जिसकी शुरुआत 5 मई  को खोज़ीकोडे के पेरम्बरा के एक परिवार से हुई है जिसमे दो भाइयों व उनको एडमिट करवानी वाली महिला की आकस्मिक मृत्यु से हुई | इससे अब तक 10 से अधिक लोगों की मौते हो चुकी है जबकि कुल 94 मामले सामने आये है |

निपाह वायरस का पहला मामला सन 1998 में  काम्पुंग सगाई निपाह , मलेशिया में पाया गया था जब सुअर पालने वाले एक किसान की इसकी चपेट में आने से मृत्यु हो गई थी |

भारत में भी यह पहली बार आया हो ऐसा नहीं है क्योंकि 2001 में पश्चिम बंगाल के सिलीगुड़ी में इससे 45 लोगो की मौत हो गयी थी |

निपाह वायरस बीमारी एक संक्रमण रोग है जो इंसानो को सुअर ,चमगादड़ ,कुत्ता आदि संक्रमित जीवो के संपर्क में आने से होती है | इससे ग्रस्त शख्स को इंसेफटिलिटिस हो जाता है जिसके अंतरगर्त तेज़ बदनदर्द ,सरदर्द ,मानसिक भ्रम जैसे लक्षण आ जाते है जिनसे इंसान कोमा में जाने के साथ -साथ मृत भी हो सकता है |

निपाह वायरस के आतंक से बचने का सबसे उचित उपाय अपना ख्याल रखना | खुशखबरी यह है कि रिबावायरिन नामक वैक्सीन इसके लिए उपलब्ध है लेकिन फिर उसकी शत प्रभावीकरण का पैमाना तय नहीं है | किसी भी संक्रमित जानवर चाहे वो आपका पालतू जानवर ही क्यों न हो उससे दूरी बनाये रखे | फुल स्लीव के कपड़े पहने और अपना शरीर ढके रहे | सरकार भुच्चड़खानो , पोल्ट्री फार्म , ज़ू आदि जगाओं से सैंपलिंग करवा रही है |

हमारी आपसे यही अपील है कि आप इसके बीमारी के प्रति  जागरूक बने और दूसरों को भी करे और यदि कोई भी तकलीफ हो तो खुद डॉक्टर बनने से अच्छा असली के डॉक्टर से उपचार करवाना क्योंकि इलाज से अच्छा है बचाव !

Connect with Us! अपनी राय कमेंट्स में दें. ताजा ख़बरों के लिए हमें फॉलो करें. अगर आपको ये पोस्ट पसंद आई, तो इसे लाइक और शेयर करना न भूलें. Subscribe our Youtube Channel: AajKaReporter Follow us on: Facebook, Twitter, Instagram