नीरव मोदी को पकड़ने में, ब्रिटेन करेगा भारत की मदद

पिछले कुछ दिनों पहले Punjab National Bank में बहुत बड़ी रकम के धोखाधड़ी का मामला सामने आया था, जिसमें भारत के मशहूर कारोबारी और हीरा व्यापारी नीरव मोदी ने बैंक को 13 हजार करोड़ रुपए का चूना लगा दिया था। खबरें कि इस मामले में अब भारत सरकार विदेश से मदद ले रही है और जल्द ही वह नीरव मोदी पर शिकंजा कसने के लिए तत्पर दिखाई दे रही है। वहीं इस बीच खबर आ रही है कि नीरव मोदी इस समय ब्रिटेन में है। ब्रिटेन के अधिकारियों ने इस बात की पुष्टि आधिकारिक तौर पर भी कर दी है। वहीं खबर है कि ब्रिटेन नीरव मोदी के मामले में भारत सरकार की मदद करने को तैयार है।

क्यों ब्रिटेन में छिपा बैठा है भगोड़ा नीरव मोदी –

पंजाब नेशनल बैंक से 13 हजार करोड़ की धोखाधड़ी का आरोपी नीरव मोदी इन दिनों ब्रिटेन में छिपकर इसलिए बैठा है क्योंकि उसे उम्मीद है कि ब्रिटेन सरकार उसकी मदद करेगी। वहीं ब्रिटेन सरकार से वह खुद को राजनीतिक उत्पीड़न का शिकार बता रहा है ताकि ब्रिटेन सरकार उसे राजनीतिक शरण दे दे। ब्रिटिश अखबार “फाइनेंसियल टाइम्स” की रिपोर्ट के मुताबिक “लंदन में रह रहे नीरव मोदी ने खुद को राजनीतिक उत्पीड़न का शिकार बताकर ब्रिटेन से राजनीतिक शरण मांगी है।”

भगोड़ों को जकड़ने की तैयारी में है भारत सरकार-

गौरतलब है कि पहले विजय माल्या भी भारतीय बैंकों से 9 हजार करोड़ से ज्यादा का कर्ज लेकर फरार हो गया था और भारत सरकार हाथ मलते रह गई थी। वहीं ब्रिटिश मंत्री बी विलियम्स और गृह राज्यमंत्री किरण रिजिजू की दिल्ली में जब बैठक हुई तो उस बैठक में कई अहम फैसले लिए गए। इस बैठक में मौजूद एक अधिकारी ने बताया कि उन्होंने नीरव मोदी की ब्रिटेन में मौजूदगी की बात को स्वीकारा है। ब्रिटेन ने नीरव मोदी और विजय माल्या को भारत में लाने के लिए पूरा सहयोग देने की बात भी कही है। वहीं बैठक के बाद किरण रिजिजू ने भी कहा कि दोनों पक्षों के बीच आतंकवाद और चरमपंथ के मुद्दों के साथ ही साथ प्रत्यर्पण और सूचनाएं साझा करने पर भी सहमत बनी है।

इंटरपोल जारी कर सकता है रेड कॉर्नर नोटिस-

सीबीआई को जब से यह बात पता चली है कि नीरव मोदी ब्रिटेन में ही मौजूद है, उसने इंटरपोल से लगातार बात करने की कोशिश को जारी रखा हुआ है। सीबीआई ने इंटरपोल से नीरव मोदी और उसके मामा मेहुल चोकसी के खिलाफ ‘रेड कॉर्नर नोटिस’ जारी करने के लिए अपील भी की थी वहीं सूत्रों से पता चला है कि इंटरपोल जल्द ही ‘रेड कॉर्नर नोटिस’ जारी कर सकता है।

‘रेड कॉर्नर नोटिस’ एक ऐसी नोटिस होती है जिसके जारी होने के बाद अंतर्राष्ट्रीय पुलिस सहयोग एजेंसी के सभी सदस्य देश नीरव मोदी और मेहुल चोकसी को गिरफ्तार कर भारत को सौंप सकते हैं।

भारत ने 3 बार भेजा है अनुरोध पत्र –

‘सीबीआई’ और ‘आयकर विभाग’ ने मार्च और अप्रैल माह में ‘यूके सेंट्रल अथॉरिटी’ को तीन अनुरोध पत्र भेजे हैं। अनुरोध पत्रों को ‘यूके सेंट्रल अथॉरिटी’ ने गंभीरता से लेते हुए धोखाधड़ी के गंभीर मामलों के कार्यालय SFO को भेज दिया था। साथ ही साथ जब S.F.O. को जब ये पत्र मिले तो उसने ईडी के एलआर पर कार्यवाही करने की बात भी कही । वहीं इसके बाद SFO और ईडी के बीच लगातार बातचीत चल रही है।

गौरतलब है कि बैंक से कर्ज लेने के बाद देश से फरार होने वाले कारोबारियों को भारत सरकार रोकने में नाकामयाब रही जिसके चलते सरकार को आलोचनाओं का सामना करना पड़ा था। वहीं अब ब्रिटेन की सक्रियता के कारण भारत सरकार भी इन भगोड़ों को पकड़ने के लिए तैयार दिख रही है उम्मीद है कि इंटरपोल के ‘रेड कॉर्नर नोटिस’ के बाद नीरव मोदी को भारत में लाकर पटकने में आसानी होगी।

Connect with Us! अपनी राय कमेंट्स में दें. ताजा ख़बरों के लिए हमें फॉलो करें. अगर आपको ये पोस्ट पसंद आई, तो इसे लाइक और शेयर करना न भूलें. Subscribe our Youtube Channel: AajKaReporter Follow us on: Facebook, Twitter, Instagram