फीफा कप 2018: मैच तीन में ईरान को मिली ऐतिहासिक जीत

फीफा वर्ल्ड कप 2018 के दूसरे मैच में शुक्रवार को सेंट पीटर्सबर्ग स्टेडियम में ग्रुप बी के मैच में ईरान ने मोरक्को को 1-0 के अंतर से हराकर ऐतिहासिक जीत दर्ज़ कर डाली| यह जीत इसलिए ख़ास थी क्योंकि इसमें ईरान की जगह मोरक्को की तरफ से आतमघाती गोल हुआ जिससे ईरान को जीत नसीब हुई|

मैच गोलरहित बराबरी की ओर बढ़ रहा था तभी इंजुरी टाइम (95वें मिनट में) ईरान को फ्री किक मिली जिसे एहसान साजी साफी ने बॉक्स के अंदर भेजा। गोलपोस्ट के सामने खड़े मोरक्को के अजीज बोउहादोउज ने हेडर के लिए गेंद को बाहर ही भेजना चाहा लेकिन वह गेंद को गोलपोस्ट के अंदर मार बैठे और ईरान को बिना मेहनत के जीत मिल गई| इसके बाद दर्शको का रिएक्शन देखने लायक ही था|

यह ऐतिहासिक जीत इसलिए थी क्योंकि ईरान ने 20 साल बाद वर्ल्ड कप में जीत हासिल करी है| उसे पिछली जीत 1998 वर्ल्ड कप में मिली थी| मैच के विश्लेषण को देखें तो अधिकतर समय गेंद ईरान के पास ही रही जिसके कारण वह मोरक्को पर दबाब बनाने में कामयाब रहा| पहले 20 मिनट बेशक मोरक्को का दबदबा था जिसके कारण ईरान का डिफेन्स कमज़ोर पड़ गया था| 25 वे मिनट से मैच में वापसी करते हुए ईरान ने अपने अटैकिंग डिपार्टमेंट के दम पर मैच में पकड़ पा ली|

दोनों टीमों ने अंत के 20 मिनटों में दोनों टीमों ने खिलाड़ी बदले और इंजरी टाइम में भी खिलाड़ी रिप्लेसमेंट के तौर पर शामिल हुए लेकिन इसका फायदा किसी भी टीम को नहीं मिला और ड्रा ही लग रहे मैच में अचानक से हुए इस आत्मघाती गोल मैच को ख़ास नतीजे वाला ऐतिहासिक मैच बना दिया|

मोरक्को की टीम को आपसी समझदारी की ज़रुरत है क्योंकि वह गेंद अपने पास ज़्यादा न रख पाने की वजह से बौखलाहट में आकर खुद के ही गोलपोस्ट पर गोल कर बैठी और ईरान को दूसरे के गलती पर मिली जीत पर इतराने से अच्छा अपने डिफेन्स को बेहतर करने पर काम करना चाहिए ताकि आगे जीत खुद से ही मिले| गौरतलब है कि अभी तक सारे मैच नतीजे वाले रहे है जो शुभ संकेत है|

Connect with Us! अपनी राय कमेंट्स में दें. ताजा ख़बरों के लिए हमें फॉलो करें. अगर आपको ये पोस्ट पसंद आई, तो इसे लाइक और शेयर करना न भूलें. Subscribe our Youtube Channel: AajKaReporter Follow us on: Facebook, Twitter, Instagram