यूएन में भारत : कश्मीर हमारा अभिन्न अंग, तर्कहीन दलीले देना बंद करे पाक

पाकिस्तानी राजदूत द्वारा संयुक्त राष्ट्र महासभा की चर्चा में कश्मीर का जिक्र करने के बाद, भारत ने पाकिस्तान को यह स्पष्ट कर दिया कि इससे कोई फर्क नहीं पड़ता कि वह कितने खोखले तर्क देता है लेकिन वह इस तथ्य को नहीं बदल सकता कि जम्मू-कश्मीर भारत का एक अभिन्न अंग है

सोमवार को संयुक्त राष्ट्र (यूएन ) महासभा में नरसंहार, युद्ध अपराध, जातीय हिंसा और मानवता के खिलाफ अपराध को रोकने और उससे संरक्षण की ज़िम्मेदारी के मुद्दे पर चर्चा के दौरान संयुक्त राष्ट्र में पाकिस्तान के राजदूत मलीहा लोदी ने कहा कि कश्मीर हत्या, नरसंहार जैसे गंभीर अपराधों से पीड़ित स्थानों में शामिल है| भारत ने उत्तर देने के अधिकार के तहत 193 सदस्यीय संयुक्त राष्ट्र निकाय में पाकिस्तान द्वारा कश्मीर मुद्दा उठाने पर एक मजबूत विरोध दर्ज करवाया|

भारत के उत्तर देने के आधिकार के तहत संयुक्त राष्ट्र में भारत के स्थायी मिशन में, प्रथम सचिव संदीप कुमार बाय्यपू ने कहा कि ऐसे समय में जब पिछले एक दशक में पहली बार इस तरह के महत्व के मुद्दे पर चर्चा की जा रही है, एक गंभीर चर्चा, यह देखा जाता है कि एक प्रतिनिधि ने फिर से इस मंच का दुरुपयोग किया है ताकि भारतीय राज्य जम्मू-कश्मीर में गलत संदर्भ दिया जा सके।

उन्होंने ने आगे कहा कि अतीत में भी संयुक्त राष्ट्र में कश्मीर मुद्दा उठाने के पाकिस्तान के कुटिल प्रयास विफल रहे हैं और उसे कोई समर्थन नहीं मिला है। उन्होंने कहा कि मैं इस बात को रेकॉर्ड में शामिल कराना चाहूंगा कि जम्मू-कश्मीर राज्य भारत का अभिन्न और अखंड अंग है। पाकिस्तान की कोई खोखली दलील इस सच को बदल नहीं सकती है।

अब पाकिस्तान में चुनावी मौसम है तो वैसे में सत्ता खोने वाली पीएमएल ऐसे घटिया कूटनीतिक प्रपंच संयुक्त राष्ट्र महासभा के पटल पर रख के कश्मीर पर दुखड़ा रो रहा है जिससे उसे कुछ नहीं मिलने वाला क्योंकि वह भारत के आगे अछूत है जिसका सबूत है चीन के अलावा किसी भी प्रमुख देश का उसे तरजीह न देना है|

Connect with Us! अपनी राय कमेंट्स में दें. ताजा ख़बरों के लिए हमें फॉलो करें. अगर आपको ये पोस्ट पसंद आई, तो इसे लाइक और शेयर करना न भूलें. Subscribe our Youtube Channel: AajKaReporter Follow us on: Facebook, Twitter, Instagram